कई किन्नरों ने महामंडलेश्वर लक्ष्मी नारायण त्रिपाठी के साथ ली दीक्षा

किन्नर अखाड़े का तीसरा स्थापना दिवस मनाने इलाहाबाद पहुंचे किन्नर अखाड़े के आचार्य महामंडलेश्वर लक्ष्मी नारायण त्रिपाठी सहित कई किन्नरों ने शुक्रवार को स्वामी वासुदेवानन्द सरस्वती से दीक्षा ली. स्वामी वासुदेवानन्द सरस्वती ने किन्नरों को शिव मंत्र और श्री विद्या की दीक्षा ग्रहण कराई.

इस मौके पर किन्नर अखाड़े के आचार्य महामंडलेश्वर लक्ष्मी नारायण त्रिपाठी ने कहा है कि हर मनुष्य के जीवन में श्री विद्या का विशेष महत्व है और ये सबसे सार्थक विद्या है. उन्होंने बताया है कि किन्नरों की मान्यता उपदेवता के रुप में है और पूरा अखाड़ा श्री विद्या परम्परा का अनुसरण करता है.

किन्नर अखाड़े के आचार्य महामंडलेश्वर ने कहा है कि हिन्दू धर्म में जो आडम्बर है वह दूर होना चाहिए और धर्म के नाम पर लोगों का शोषण भी बन्द होना चाहिए. उन्होंने कहा है कि हिन्दू सनातन धर्म बहुत ही आधुनिक धर्म है और सभी को अपने में समाहित करने की अद्भुद क्षमता भी रखता है.

किन्नर अखाड़े का दरवाजा हर मनुष्य के लिए हमेशा खुला है. उन्होंने कहा है कि किन्नर अखाड़ा कोई लैंगिग भेद नहीं करता है. किन्नर अखाड़े का तीसरा स्थापना दिवस मनाने पहुंचे आचार्य महामंडलेश्वर लक्ष्मी नारायण त्रिपाठी ने कहा है कि इस मौके पर नारियों को भी किन्नर अखाड़ा महामंडलेश्वर के पद पर आसीन करेगा और उनका पट्टाभिषेक 2019 के अर्धकुम्भ में संगम में किया जायेगा.

 इस मौके पर स्वामी वासुदेवानन्द सरस्वती ने कहा है कि किन्नरों की अपनी समृद्ध परम्परा रही है. उन्होंने कहा है कि दीक्षा ग्रहण करने के बाद किन्नर संत हिन्दु धर्म की सनातन परम्परा को आगे बढ़ाने का काम करेंगे.

Leave a Reply