शिरोमणी अकाली दल प्रधानमंत्री को याचिका देकर अपील करेगा कि पुरस्कारों, संस्थाओं तथा सार्वजनिक योजनाओं से राजीव गांधी का नाम हटाया जाए

शिरोमणी अकाली दल प्रधानमंत्री को याचिका देकर अपील करेगा कि पुरस्कारों, संस्थाओं तथा सार्वजनिक योजनाओं से राजीव गांधी का नाम हटाया जाए
सुखबीर बादल ने कहा कि कितनी शर्म की बात है कि अरविंद केजरीवाल ने 1984 कत्लेआम के पीड़ितों का साथ देने की जगह गांधी परिवार का साथ देने का फैसला लिया
तलवंडी साबो/मौड़/24दिसंबरः शिरोमणी अकाली दल के अध्यक्ष सरदार सुखबीर सिंह बादल ने आज कहा कि अकाली दल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को याचिका देकर अपील करेगा कि 1984 में कत्लेआम में पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की भूमिका को ध्यान में रखते हुए सरकारी संस्थाओं, पुरस्कारों तथा सार्वजनिक योजनाओं से उसके नाम को हटा दिया जाए।
यहां तलवंडी साबो तथा मौड़ में संवादाताओं से बातचीत करते हुए अकाली दल के अध्यक्ष ने कहा कि इस बात की कोई तुक नही बनती कि पुरस्कारों, सार्वजनिक स्कीमों यां हवाई अडडों जैसे राष्ट्रीय परियोजनाओं का नाम एक ऐसे व्यक्ति के नाम पर रखा जाए, जिसके हाथ निर्दोष सिखों के खुन से सने हुए हो। उन्होने कहा कि इस बात को लेकर समुचे सिख भाईचारे में सर्वसहमति है कि राजीव गांधी ने सज्जन कुमार तथा जगदीश टाइटलर जैसे व्यक्तियों के द्वारा सिखों का सामूहिक कत्लेआम करवाया था। अब वे इस केस का निपटारा चाहते हैं तथा इसका निर्णय राजीव गांधी को दिया भारत रत्न वापिस लेकर तथा राष्ट्रीय प्रोजेक्टों तथा स्कीमों से उसके नाम अलग करके ही होगा।
सरदार बादल ने कहा कि पंजाब का मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह गांधी परिवार को क्लीन चिट देने की जिम्मेवारी अपने सिर लेकर 1984 कत्लेआम के पीड़ितों के जख्मों पर नमक छिड़क रहा है। उन्होने कहा कि अमरिंदर द्वारा सिर्फ अपनी कुर्सी बचाने के लिए किए विश्वासघात के लिए सिख कौम उसे कभी माफ नही करेगी।
आम आदमी पार्टी के बारे में बोलते हुए सरदार बादल ने कहा कि इस पार्टी ने गांधी परिवार से निर्देश मिलने के बाद राजीव गांधी से भारत रत्न वापिस मांगने वाले प्रस्ताव को मान्यता देने से इंकार करके अपना असली चेहरा दिखा दिया है। उन्होने कहा कि कितनी शर्म की बात है कि 1984 पीड़ितों के लिए मगरमच्छ के आंसु बहाने वाले अरविंद केजरीवाल ने पीड़ितों के साथ खड़े होने की जगह गांधी परिवार का साथ देने का फैसला किया है। उन्होने कहा कि इससे साबित होता है कि आप कांग्रेस पार्टी की बी टीम है। इससे पहले आप ने दिल्ली में अपनी सरकार बनाने के लिए कांग्रेस का समर्थन लिया था। इसने पंजाब में कांग्रेस की सरकार बनाने के लिए अंदरूनी तौर पर उसकी मदद की थी। अब यह गांधी परिवार को बचाने के लिए सिखों के खिलाफ कांग्रेस के साथ खड़ी हो गई है।
इससे पहले अकाली दल के अध्यक्ष ने तलवंडी साबों तथा मौड़ में पार्टी वर्करों से बातचीत की। उन्होने वर्करों से फीडबैक ली तथा उन्हे एकजुट होकर कांग्रेसी दमन का सामना करने के लिए कहा। इस अवसर पर पार्टी वर्करों ने बताया कि किसानों तथा गरीबों का कांग्रेस सरकार ने सबसे ज्यादा नुकसान किया है। उन्होने कहा कि आटा दाल स्कीम बंद कर दी गई है। गरीबों के लिए 200 यूनिट मुफ्त बिजली की स्कीम भी बंद कर दी गई है तथा लाभार्थियों को बड़े बिल आने शुरू हो गए हैं। मौड़ में आलू बीजने वाले किसानों ने कहा कि वह भारी संकट का सामना कर रहे हैं, क्योंकि सरकार अपनी एजेंसियों के द्वारा आलू खरीदने से इंकार कर रही है। इसके अलावा कांग्रेस सरकार ने दूसरे राज्यों की तरह आलू उत्पादकों को भाड़ा सबसिडी तथा भंडारण सबसिडी देने से भी इंकार कर दिया है।
बठिंडा संासद तथा केंद्रीय खाद्य प्रसंस्करण मंत्री बीबी हरसिमरत कौर बादल ने भी मौड़ में पाटी वर्करों से बातचीत की। इस अवसर पर अन्य के अलावा तलवंडी में जीत महेंद्र सिंह सिद्धू तथा मौड़ में पूर्व मंत्री जनमेजा सिंह सेखों भी हाजिर थे।

Leave a Reply